विपरीत परिस्थितियों में भी लक्ष्य से ध्यान ना भटकने दे तो सफलता तय

कोलकाता में कोलकाता बॉयज स्कूल में आयोजित कार्यक्रम में स्टूडेंट्स को कॅरिअर पॉइंट के सीनियर वाइस प्रेसीडेंट देव शर्मा ने किया संबोधित, बताए सफलता के 6.5 मंत्र

कोलकाता। यदि विपरीत परिस्थितियों में भी लक्ष्य पर ध्यान केंद्रित करने की क्षमता है, तो मानकर चलिए सफलता निश्चित मिलेगी। उक्त विचार कैरियर पॉइंट के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट देव शर्मा ने व्यक्त किए। शर्मा कोलकाता में कोलकाता बॉयज स्कूल में आयोजित कॅरिअर पॉइंट शाखा द्वारा आयोजित कार्यक्रम में बतौर मुख्य वक्ता संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि अधिकांश लोग विपरीत परिस्थितियों में लक्ष्य से भटक जाते हैं। धैर्य खो देते हैं। आत्मविश्वास लेश मात्र रह जाता है और अंततः असफलता के अंध महासागर में डूब जाते हैं, जो गलत है। ऐेस में स्वयं पर भरोसा रखे और आत्म विश्वास के साथ मैदान में डटे रहे। ’उन्होंने उदाहरण देते हुए स्पष्ट किया किस प्रकार सेरेना विलियम्स जैसे अनुभवी खिलाड़ी विपरीत परिस्थितियों में अपना संयम एवं धैर्य खो देती है फलस्वरूप लक्ष्य से ध्यान भटकता है क्योंकि ध्यान एवं ऊर्जा अंपायर को भला बुरा करने में लग जाती है और अंतर ओसाका जैसी नई खिलाड़ी के हाथों विलियम्स मैच गंवा बैठती हैं’।
विद्यार्थियों के उत्साहवर्धन एवं विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं के प्रति जागरूकता के लिए तथा प्रतियोगी परीक्षा में सफलता हेतु रण नीति निर्माण के लिए ’सफलता के 6.5 मंत्र’ शीर्षक एक कार्यक्रम के इस आयोजन में उपस्थित विद्यार्थियों एवं सम्मानीय शिक्षकों में कार्यक्रम के शीर्षक के प्रति उत्सुकता स्पष्ट दिखाई दे रही थी। विद्यार्थियों की आंखों में यह उत्सुकता स्पष्ट थी की मंत्रों की संख्या का तो पूर्णांक होना आवश्यक है। तो सफलता के मंत्र या तो 6 होने चाहिए या फिर 7…
यह 6.5 क्यों ??
इस उत्सुकता को देखते हुए श्री शर्मा ने पहले तो यह स्पष्ट किया एक शिक्षक का मूल कार्य विद्यार्थियों में जिज्ञासा को जाग्रत करना है क्योंकि जागृत एवं जिज्ञासु विद्यार्थी ही सफलता के लिए सुपात्र होता है। जिज्ञासाहीन विद्यार्थी सफलता की पात्रता ही हासिल नहीं कर पाता। कॅरिअर पॉइंट संस्थान का अपने स्थापना वर्ष से ही यह मूल उद्देश्य रहा है कि विद्यार्थियों में सर्वप्रथम विषय के प्रति जिज्ञासा उत्पन्न की जाए और फिर उसकी जिज्ञासा को निरंतर शांत करते हुए उसे विषय की गहराई तक ले जाया जाए।
यही कारण है कि कॅरिअर पॉइंट के स्थापना वर्ष में जब 51 विद्यार्थियों ने प्रवेश लिया तो उनमें से 15 विद्यार्थी आईआईटी जैसी प्रतिष्ठित परीक्षा में चयनित हो गए। सफलता का यह एक बहुत बड़ा प्रतिशत था और इस सफलता ने कोटा राजस्थान को शिक्षा नगरी के रूप में स्थापित करने में एक अहम भूमिका निभाई। कोलकाता के विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए श्री शर्मा ने महान विवेकानंद एक ब्रह्म वाक्य को दोहराया और कहा ’ब्रह्मांड की सारी शक्तियां हमारी अपनी है। हम ही है जो जबरदस्ती आंखें मूंदकर अंधकार का ढिंढोरा पीटते रहते हैं। उठो जागो और तब तक मत रुको जब तक की सफलता प्राप्त ना हो’

सीपी स्टार की विस्तृत जानकारी भी दी

कॅरिअर पॉइंट की अनूठी पहल ’सीपी स्टार’ के बारे में जानकारी देते हुए देव शर्मा ने बताया कि किस प्रकार ’विद्यार्थी अपने अंदर छुपे हुए एक स्टार को पहचान सकता है’ तथा अपनी प्रतिभा का उपयोग करते हुए आने वाले समय में प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता प्राप्त कर सकता है। इस अवसर पर कॅरिअर पॉइंट कोलकाता शाखा के डायरेक्टर लोपा मुद्रा दत्ता, विनायक बनर्जी, नीलांजन बनर्जी, प्राचार्य राजा मैक्गी, शुभेंद्र दास गुप्ता, सोमा मजूमदार आदि मौजूद थे।

Career Point
Register New Account
Reset Password