सपनों को हकीकत में करने का जरिया है गुरू

– कॅरिअर पॉइंट में शिक्षक दिवस पर ’कुछ रंग विवेक के संग’ कार्यक्रम में बही काव्य की रसधार

कोटा,। शिक्षक दिवस पर बुधवार को कॅरिअर पॉइंट की ओर से डकनिया रोड स्थित सीपी टॉवर के ऑडिरोयिम में ’कुछ रंग विवेक के संग’ कार्यक्रम का आयोजन हुआ। कार्यक्रम में शेखावटी से आए युवा कवि विवेक पारीक ने मंच से अभिनय, संवाद के साथ काव्य की रसधार बहाकर गुरू-शिष्य परंपरा का बखान करते हुए गुरू की महत्ता बताई।
कॅरिअर पॉइंट के पूर्व स्टूडेंट रह चुके विवेक ने अपने चिरपरिचित अंदाज में जैसे ही मंच पर आकर अभिवादन किया श्रोताओं से खचाखच भरे ऑडिटोरियम में तालियों की करतल ध्वनि गूंज उठी। श्रोताओं का उत्साह देखते बना। विवेक ने शिक्षक को अपनी रचना से परिभाषित करते हुए कहा कि गुरू कर्तव्य है, गुरू संकल्प है साधना है शक्ति है..कड़ा कानून है…गुरू आंखों में बहती उम्मीदों का दरियां है… गुरू सपनों को हकीकत में करने का जरिया है..जोश है जज्बा है, गुरू यज्ञ में स्वयं की आहुति देने का नाम है…श्रम के मस्तक पर विजय का किरिट है…गुरू विधि के विधान को चुनौती देता प्रयास है, गुरू आपकी क्षमताओ में अटूट विश्वास है… गुरू कब क्यो, कैसे हर प्रश्न का जवाब है… सुनाकर माहौल की फ़िजा ही बदल दी।

  मौजूद श्रोता उनके शब्दों के प्रवाह में बहते ही चले गए। युवा कवि विवेक पारीक ने प्रेम की वाणी नहीं ललकार होनी चाहिए, रक्त रंजित खड़ग की धार होनी चाहिए एवं भारत भाग्य विधाता कविता की भी दमदार प्रस्तुति की। जिंदगी गम से भरी काबिले तारीफ है गजल सुनाकर खूद दाद पाई। उन्होंने दिवंगत अटल बिहारी वाजपेयी की रचनाएं भी प्रस्तुत की। इस मौके पर कॅरिअर पॉइंट के निदेशक ओम माहेश्वरी, अकादमिक निदेशक शैलेंद्र माहेश्वरी, फैकल्टी अमित अग्रवाल, रमेश शारदा, प्रदीप चित्तोड़ा, पंककज तलवार, सुनील शर्मा, सु
से ही मंच पर आकर अभिवादन किया श्रोताओं से खचाखच भरे ऑडिटोरियम में तालियों की करतल ध्वनि गूंज उठी। श्रोताओं का उत्साह देखते बना। विवेक ने शिक्षक को अपनी रचना से परिभाषित करते हुए कहा कि गुरू कर्तव्य है, गुरू संकल्प है साधना है शक्ति है..कड़ा कानून है…गुरू आंखों में बहती उम्मीदों का दरियां है… गुरू सपनों को हकीकत में करने

नील न्याती, मयंक जैन सहित बड़ी संख्या में स्टूडेंट्स मौजूद थे।

गुरू साथ आपका हो सिर पर हाथ आपका हो…

कॅरिअर पॉइंट के अकादमिक निदेशक शैलेंद्र माहेश्वरी ने भी मंच से काव्य-पाठ किया। माहेश्वरी ने गुरू साथ आपका हो सिर पर हाथ आपका हो…पंक्तियां सुनाकर माहौल
 को नई ऊंचाई दी। उन्होंने काव्य रचना के जरिए स्टूडेंट्स को जीवन में आने वाली विभिन्न चुनौतियों से निपटने के साथ ही प्रगति की तरफ अग्रसर होने का संदेश दिया। ऑडिटोरियम तालियों की करतल ध्वनि से गूंजता रहा।

2010 बैच के कॅरिअर पॉइंट के स्टूडेंट रह चुके है विवेक

विवेक पारीक 2010 में कोटा में कॅरिअर पॉइंट संस्थान में इंजीनियरिंग के स्टूडेंट रहे चुके है। कोटा से कोचिंग के बाद विवेक ने एमबीएम जोधपुर इंजीनियरिंग कॉलेज से बी.टेक व एमटेक की पढ़ाई पूरी की। विवेक ने पढ़ाई के साथ-साथ अपने अंदर के कलाकार को भी जागृत रखा और देश के कई मंचों पर बेहतर काव्य पाठ, अभिनय की दमदार प्रस्तुति दे एक नया मुकाम बनाया जो आज युवाओं के दिल पर अमिट छाप छोड़ रहा है। विवेक राजस्थान के सबसे युवा कलाकार है जिन्होंने नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा में टॉप 100 में अव्वल आकर अमिट छाप छोड़ी है। विवेक पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल से भी सम्मानित हो चुके है।

Career Point
Register New Account
Reset Password