छत्तीसगढ़ के आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र से निखर रही है प्रतिभाएं

– कोरबा के ग्रामीण अंचल से 17 स्टूडेंट का हाल ही में हुआ देश के टॉप एनआईटी, जीएफटीआई व ट्रीपल आईटी में चयन

-अग-्रगमन प्रोजेक्ट के तहत शासकीय विद्यालयों में कॅरिअर पॉइंट की बेस्ट फैकल्टी दे रही बेहतर एजुकेशन

कोरबा, 30 जुलाई। छत्तीसगढ़ राज्य के कोरबा जिले के आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र में अब शिक्षा का उजियारा घरों के चिराग को नई दिशा प्रदान करने लगा है। हाल ही में कोरबा के ग्रामीण अंचल क्षेत्र के होनहार 17 विद्यार्थियों का देश के टॉप एनआईटी, जीएफटीआई व ट्रीपल आईटी में चयन हुआ हैं। सुविधाओं से कौसो दूर रहकर भी सच्ची लगन के साथ शिक्षा के रथ पर सवार हुए इन चयनित विद्यार्थियों में पांच बेटियां भी शामिल हैं।

एजुकेशन हब कोटा की पहचान कॅरिअर पॉइंट द्वारा इन सभी चयनित बच्चों को शासकीय विद्यालय में अग्र-गमन प्रोजेक्ट के तहत गुणवत्ता युक्त शिक्षा दी और बेहतर भविष्य का मार्ग प्रशस्त किया गया है। ऐसे में अभिभावकों व स्थानीय प्रशासन ने भी कॅरिअर पॉइंट के बेहतर एजुकेशन की जमकर सराहना की। कॅरिअर पॉइंट के निदेशक ओम माहेश्वरी बताते है कि प्रतिभाओं को बेहतर मंच मिले और शिक्षा से हर व्यक्ति का जीवन संवरे इसके लिए सीपी गु्रप प्रयासरत है और सदैव प्रयासत रहेगा। कोरबा के जिला कलक्टर मोहम्मद कैय्सर अब्दुलहक ने बताया कि जिला खनिज संस्थान न्यास के सहयोग से जिले के शासकीय विद्यालयों के 10 वीं उत्तीर्ण अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, बीपीएल परिवार के प्रतिभावान बच्चों को बेहतर एजुकेशन मिले इसके लिए अग्रगमन प्रोजेक्ट के तहत कॅरिअर पॉइंट इंस्टीट्यूट कोटा द्वारा अनुबंध के आधार पर बच्चों को एजुकेशन दी जा रही है, ताकि नई पीढ़ी का भविष्य बेहतर हो।

कोई किसान परिवार से तो किसी के पिता ने मजदूरी करके बढ़ाया बच्चों को

अग्र-गमन प्रोजेक्ट के मैनेजर राजवीर यादव व सहायक मैनेजर मनीष कुमार ने बताया कि कोरबा में अग्रगमन प्रोजेक्ट के तहत संचालित शासकीय विद्यालय के चयनित स्टूडेंट्स मेसे कोई किसान परिवार से है तो किसी के पिता मजदूरी करके परिवार की गाड़ी खींच रहे है। आईआईटी कानपुर में सलेक्ट हुए स्टूडेंट टीकम एक साधारण किसान परिवार से है। पिता अजहनसिंह खेती करते हैं। चार भाईयों में टीकम तीसरे नंबर का है। टीकम बताते है कि तीनों भाई भी पिता के साथ खेती के कार्य में हाथ बटाते है। वे भी कई बार खेती के काम में परिजनों के साथ काम करने में नहीं चूकते। लेकिन परिजनों का पढ़ाई में काफी सहयोग रहता है। इसी तरह कई ऐसे परिवार से जुड़े है जिनकी माली हालत अच्छी नहीं है। मजदूरी करके माता-पिता बच्चों को पढ़ने के लिए प्रेरित कर रहे है।

17 प्रतिभाओं का हुआ चयन, 5 बेटियां भी शामिल

कोरबा के शासकीय विद्यालय में संचालित अग्र-गमन प्रोजेक्ट के कुल 17 स्टूडेंट का हाल ही में देश के टॉप एनआईटी, जीएफटीआई व ट्रीपल आईटी में चयन हुआ है। इनमें पांच बेटियां भी शामिल है। प्रोजेक्ट के सहायक मैनेजर मनीष कुमार ने बताया कि टीकमसिंह का आईआईटी कानपुर में बीटेक कॅमिकल इंजीनियरिंग ब्रांच में चयन हुआ है। इसी तरह विक्रमसिंह का एनआईटी अगरतला, विकास दिवाकर व राहुल का एनआईटी रायपुर, सिमरन कंवर को एनआईटी मेघालय, कन्हैयालाल व बलदेव का एनआईटी श्रीनगर, रौशन का एनआईटी नागालेंड, विनिता, अंजली, प्रीती का ट्रीपलआईटी भदोई, यशवंत व संतोष का जीएफटीआई हरिद्वार, छात्रा रक्षा, रितिका, छात्र हिमांशु, दिगम्बर लाल का जीएफटीआई बिलासपुर में चयन हुआ है।

 

Career Point
Register New Account
Reset Password