स्टूडेंट ने सीखे स्मार्ट बिल्डिंग व स्मार्ट नोटिस बोर्ड बनाने के तरीके

– सीपीयू का इन हाउस ट्रेनिंग प्रोग्राम शुरू

-एक्सपर्ट दे रहे है इंटरनेट ऑफ थिंग्स के जरिए तकनीक का बेहतर उपयोग के टिप्स

कोटा, 22 मई। डिजीटल युग में युवा तकनीक को समझे और स्वावलंबी बने, इसके लिए कॅरिअर पॉइंट यूनिवर्सिटी (सीपीयू) ने डकनिया रोड स्थित सीपी टॉवर में मंगलवार से 45 दिवसीय इंटरनेट ऑफ थिंग्स (आईओटी) ट्रेनिंग प्रोग्राम शुरू किया हैं। पहले दिन प्रशिक्षण ले रहे स्टूडेंट्स ने स्मार्ट बिल्डिंग व स्मार्ट नोटिस बोर्ड बनाने के तरीके सीखे।
सीपीयू के अकादमिक निदेशक डॉ. गुरूदत्त कक्कड़ ने बताया कि आर्टिफिशियल इंटीलेंज (एआई) व आईओटी के तहत नई तकनीक के बारें में एक्सपर्ट विस्तृत जानकारी दे रहे है। प्रशिक्षक अजय सैनी ने बच्चों को स्मार्ट बिल्डिंग व स्मार्ट नोटिस बोर्ड के बारें में विस्तृत जानकारी देते हुए इसके बनाने से लेकर इसके फायदें तक समझाएं। सीपीयू के सहायक प्रोफेसर व प्रोग्राम कॉर्डिनेटर मोहनीश विद्यार्थी ने बताया कि इस ट्रेनिंग प्रोग्राम में भाग लेने वाले इच्छुक अभ्यर्थी सीपी टावर से आवेदन प्राप्त कर सकते है। आवेदक को सी लेंगवेज के सिन्टेक्स की जानकारी होना अनिवार्य हैं। ट्रेनिंग के दौरान पानी बचाने, खेती करने के नए तरीके सहित कई नई तकनीक से अवगत कराया जाएगा।

क्या है स्मार्ट बिल्डिंग व नोटिस बोर्ड

सीपीयू के सहायक प्रोफेसर व प्रोग्राम कॉर्डिनेटर मोहनीश विद्यार्थी ने बताया कि किसी भी आवासीय या कॉमर्शियल बहुमंजिला इमारत के प्रवेशद्वार पर एक इंटरनेट डिवाइस लगाई जाती है, जो इमारत में आने-जाने वाले व्यक्तियों का डाटा फीड करती है। एडमिन कहीं भी बैठकर अपने मोबाइल के जरिये यह पता लगा सकता है कि कितने लोगों की बिल्डिंग में आवाजाही रहीं। इसी तरह स्मार्ट नोटिस बोर्ड के जरिए एक जगह बैठकर नोटिस बोर्ड पर कोई भी डिजीटल संदेश लिख व मिटा सकते है।

Career Point
Register New Account
Reset Password